Thursday, 19 November 2015

स्वदेशी अपनाये देश बचाये !

दोस्तो…
हम भारत वर्ष में रहते है
हमारा देश  सदियों से शांती और अमन से रहता आ रहा है
हमारे देश के इतिहास में हमने आज तक किसी भी दूसरे देश पर सबसे पहले आक्रमण नही किया है, क्योंकी हम शांतता प्रिय देश के निवासी थे और है
किंतु जब हम पर किसीने आक्रमण किया हो तो हमने उसका जवाब ईट का जवाब पत्थर से इस न्याय के साथ दिया है
लेकिन पिछले कुछ सदियों हम पर लगातार परकीय शक्तीयोंने आक्रमण
किया है जिसमें मोगल हो या अंग्रेज हो  और अब अपना पढोसी पाकिस्तान हो, जो हर पल हम पर आंतकवादी हमले कर रहा है और हम सिर्फ हाथपर हाथ धरे बैठे है ऐसा कब तक चलेगा ये हम नही जानते ?
लेकीन ये सब कब बंद करना है, ये हम तय कर सकते है !
आप कहेंगे कैसे ?
इसलिए हमे एक साथ खड़ा होना पडेगा, हमारे देश कि रक्षा हमे खुद करनी पडगी
इसलिए हमे सबके मन में देश के प्रति प्यार जगाना पडेगा  नही तो ये हमारा काम नही है, ये सरकार का काम है, मिलीट्री का काम हैऐसा कहने से नही चलेगा
ये देश हमारा है, तो इसकी रक्षा का जिम्मा भी हमारा हैहम इसे ठुकरा नही सकते
तो हमे सबसे पहले सोशल मिडीया का उपयोग करके लोगो जागरूकता लानी पडेगी दुसरा सबसे बडा काम है आंतकवादी यो को जाने वाला पैसा रोकना पडेगा
अब कहेगे कि हम कहा आंतकवादी यो पैसा देते है  आप प्रत्यक्ष रूप से नही लेकिन परोक्ष रूप से उनको पैसा देते है, वो विदेशी सामान खरीद कर  क्योंकी अमरिका, चाइना और हम जो विदेशी कंपनी यो के सामान खरीद कर उन्हे मुनाफा देते है  वही पैसा इन आंतकवादीयो पर खर्च होता है इसलिए सबसे पहले विदेशी सामान खरिदना बंद करे इससे स्वदेशी अर्थव्यवस्था और मजबुत हो जायेगी और हम पुरी तयारी के साथ इन आंतकी यो सफाया कर सकते है

आज के लिए बस इतना हि कहॅुंगा बाकि फिर कभी………!

No comments:

Post a Comment


येथे वरील पोस्टच्या विषया संदर्भांतच टिप्पणी कराव्यात,
चुकीच्या शब्दाचा वापर केल्यास टिप्पणी काढून टाकल्या जातील !